अभी अभी

नज़रिया

कहानियां

कविताएं

ये भी खबर है

वीडियो

Top reviews

अमीर- गरीब

Thursday, July 13, 2017
बहुत व्यस्त रहीं दिन भर, बात करने तक की फुरसत नहीं थी तुम्हारे पास हां थी तो, गरीबों के लिए मंदिर में भंडारा कराना कोई छोटा-मोटा काम...Read More

इंसान

Saturday, April 01, 2017
सब कुछ समझते हुए भी नासमझ रह कर शातिर और स्वार्थी दुनिया के बीच इंसान बनना अच्छा है झूठ, लालच और फरेब से बचकर  ज़ालिम दुनिया मे...Read More