मुझसे जुड़ें

Thursday, April 09, 2015

ओबामा जी से अपने दंगे संभलते नहीं और भारत को गांधी की याद दिलाते हैं


आपको याद होगा अभी कुछ ही दिनों पहले यानी जनवरी में जब अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी तशरीफ यहां लेकर आए थे.. तब उन्होंने जाते-जाते क्या कहा था... नहीं याद आ रहा तो मैं याद दिलाता हूं.. ओबामा ने कहा था कि भारत में पिछले कुछ सालों में धार्मिक असहिष्णुता बढ़ी है.. और अगर महात्मा गांधी आज होते तो वो बेहद दुखी होते... लेकिन माननीय ओबामा जी अपना देश भूल गए थे.. अब एक बार फिर अमेरिका के साउथ कैरोलिना शहर में पुलिस के एक गोरे जवान ने एक अश्वेत वाल्टर स्कॉट को पांच गोलियां मारी...ज़मीन पर गिरे उसके बेजान शरीर के हाथों को हथकड़ियां पहनाई... फिर उसके जिस्म के पास टेसर नाम का हथियार भी रखा... टेसर से बिजली का ज़ोर से झटका लगता है... अमूमन भागते अपराधियों को पकड़ने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है... वाल्टर स्कॉट नॉर्थ चार्लेस्टन में कोस्ट गार्ड का पूर्व सैनिक था... फिलहाल उस गोरे पुलिस अधिकारी माइकल स्लैगर को गिरफ्तार कर लिया गया है... उस पर हत्या का मुकदमा चल रहा है.. लेकिन सवाल ये है कि क्या बराक ओबामा अब दोबारा वही डायलॉग अपने देश में मारेंगे कि.. सेनोरिटा... बड़े...बड़े देशों में छोटी-छोटी बातें हो जाया करती हैं.. ओबामा जी दूसरे की गलतियां फौरन नज़र आ जाती हैं लेकिन अपनी देख कर भी नज़रअंदाज़ की गयी गलतियों को क्या कहा जाएगा... आज भी आपके देश में गोरे और काले की लड़ाई जारी है... उम्मीद है फर्ग्युसन में हुए दंगे अभी आप भूले नहीं होंगे...