आप मुझे फॉलो कर सकते हैं

Thursday, April 09, 2015

दुनिया की 96 फीसदी महिलाएं खुद को सुंदर नहीं मानती



हा हा हा हा हा... तस्वीर देखिए और फिर खबर समझिए.. वैसे आपको बता दूं कि ब्यूटी प्रोडकट्स बनाने वाली कंपनी डव ने दुनिया के पांच शहरों चीन के शंघाई... अमेरिका के सैन फ्रैंसिस्को... ब्रिटेन के लंदन... ब्राज़ील के साउ पाउलो और भारत के दिल्ली में महिलाओं पर एक सर्वे किया... एक एंट्री प्वाइंट पर लिखा एवरेज और दूसरे पर ब्यूटीफुल... सर्वे में पाया गया कि 96 फीसदी महिलाओं ने खुद को एवरेज बताया है... और बाकी भारत में क्या हुआ.. तस्वीर से आपको पता चल गया होगा...

ओबामा जी से अपने दंगे संभलते नहीं और भारत को गांधी की याद दिलाते हैं


आपको याद होगा अभी कुछ ही दिनों पहले यानी जनवरी में जब अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी तशरीफ यहां लेकर आए थे.. तब उन्होंने जाते-जाते क्या कहा था... नहीं याद आ रहा तो मैं याद दिलाता हूं.. ओबामा ने कहा था कि भारत में पिछले कुछ सालों में धार्मिक असहिष्णुता बढ़ी है.. और अगर महात्मा गांधी आज होते तो वो बेहद दुखी होते... लेकिन माननीय ओबामा जी अपना देश भूल गए थे.. अब एक बार फिर अमेरिका के साउथ कैरोलिना शहर में पुलिस के एक गोरे जवान ने एक अश्वेत वाल्टर स्कॉट को पांच गोलियां मारी...ज़मीन पर गिरे उसके बेजान शरीर के हाथों को हथकड़ियां पहनाई... फिर उसके जिस्म के पास टेसर नाम का हथियार भी रखा... टेसर से बिजली का ज़ोर से झटका लगता है... अमूमन भागते अपराधियों को पकड़ने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है... वाल्टर स्कॉट नॉर्थ चार्लेस्टन में कोस्ट गार्ड का पूर्व सैनिक था... फिलहाल उस गोरे पुलिस अधिकारी माइकल स्लैगर को गिरफ्तार कर लिया गया है... उस पर हत्या का मुकदमा चल रहा है.. लेकिन सवाल ये है कि क्या बराक ओबामा अब दोबारा वही डायलॉग अपने देश में मारेंगे कि.. सेनोरिटा... बड़े...बड़े देशों में छोटी-छोटी बातें हो जाया करती हैं.. ओबामा जी दूसरे की गलतियां फौरन नज़र आ जाती हैं लेकिन अपनी देख कर भी नज़रअंदाज़ की गयी गलतियों को क्या कहा जाएगा... आज भी आपके देश में गोरे और काले की लड़ाई जारी है... उम्मीद है फर्ग्युसन में हुए दंगे अभी आप भूले नहीं होंगे...

Tuesday, April 07, 2015

उत्तराखंड पुलिस के दबंग...राउडी और सिंघम पुलिसवाले

भइया ऐसा है कि... अब पुलिसवाले फिल्मों से कुछ ज्यादा ही प्रभावित हो गए हैं.. और रही सही कसर.. सिंघम...सिंघम रिटर्न्स... राउडी राठौर... दबंग और दबंग 2 का कुछ ज्यादा ही असर है... कुछ तस्वीरें लगायी हैं.. देखिए और असली ज़िंदगी वाले दबंगों.. राठौरों... और सिंघमों की इश्टाइल देख लीजिए... अरे ये बताना तो भूल ही गया कि.. ये लोग उत्तराखंड पुलिस के अधिकारी हैं... यानि हथियार भी असली.. वर्दी भी असली... बस इश्टाइल कॉपी किया हुआ है... फेसबुक पर धड़ा-धड़ लाइनक मिल रहे हैं... कमेंट हो रहे हैं.. और हो भी क्यों ना... अपने इलाके के सिंघमों..राउडियों और दबंगों की जी हज़ूरी के लिए लाइक करना तो बनता ही है ना... उत्तराखंडियों के भाइयों नाराज़ मत होना... देश के बाकी हिस्सों की पब्लिक भी जी हज़ूरी में तो इससे कई गुना आगे निकल जाती है.. आप तो अभी फेसबुकिया ही रहे हो...











सड़क पर वो मार खाता रहा, बच्चे लोगों से पिता को बचाने की गुहार लगाते रहे, शर्म है दिल्लीवालों


दिल्ली वाले ना सिर्फ गालियां देने में बेशर्म हैं.. बल्कि वो किसी की जान बचाने में भी बेशर्म हैं... अरे कोई सड़क पर लड़ रहा है तो मेरी बला से... नौबत हाथापाई तक पहुंच गयी है मेरी बला से.. मैं तो खड़ा होकर सिर्फ तमाशा देखूंगा... हाथापाई अब जानलेवा बन चुकी है.. अरे तो मैं क्या करूं... मुझे तो बड़ा मज़ा आ रहा है... भाई क्या सही लड़ाई चल रही है यहां पर... मरेगा पक्का. .दोनों में से कोई ना कोई तो मरेगा... अबे तो मैं क्या करूं.. किसी और के फटे में क्यों टांग अड़ाउं... ना भाई ना... अपने को तो भाई ऐसे लफड़े से दूर ही रहना है... और इन्हीं विचारों के साथ करीब 60-70 लोग जो काफी देर से घेरा बनाए... भीड़ बनकर.. रोड़ पर हो रही लड़ाई देख रहे थे.. नामर्दों की तरह... वो घेरा तोड़कर निकल गए... थोड़ी देर बाद टीवी देखते हुए... एक भाई साहब अपनी पत्नी को बता रहे थे...अरे देख-देख यहीं पर था मैं... साला क्या कुत्तों की तरह लड़ रहे थे लोग... कोई बचाने नहीं आया बेचारे को... अब अकेला मैं क्यों जाता मरने.... साला इतने लोग थे वहां पर कोई ना कोई तो आ ही जाता.. लेकिन सब साले फट्टू निकले... हां भई.. कौन जाए... अपनी जान तो नहीं जा रही थी ना...

और इस तरह से दिल्ली में कुछ लोगों ने मामूली सी सड़क लड़ाई को जानलेवा जंग में बदलते देखा... कुछ लोगों ने बच्चों के सामने उसके पिता को मरते देखा... और फिर भीड़ का घेरा यूं निकल गया जैसे सब ज़िंदा लाशें खड़ीं थी वहां पर... शर्म है दिल्ली वालों... 

Monday, April 06, 2015

धत्त तेरे की दीपिका पादुकोण ने तो मर्दों वाली बात कह दी


वैसे दीपिका पादुकोण से जानकारी के लिए पूछना था...(अगर उनसे बात करने का मौका मिल जाए) कि जिन जिन चीज़ों/बातों/ख्यालों पर उन्होंने बड़ी ही बेबाकी से अपनी राय दी है कि वो उनकी अपनी है उसका इस्तेमाल वो अपनी मर्ज़ी के हिसाब से करेंगी... (वैसे वो यहां पर दुनियाभर की महिलाओं की बात कर रही हैं) तो ज़रा बता दें कि अगर पुरुष भी उन सारी चीज़ों/बातों/ख्यालों का जो महिलाओं के बराबार पुरुषों में होती है.. उसका इस्तेमाल भी दीपिका की बतायी मनमर्जी यानि अपनी मर्ज़ी से करने लगें.. जैसा कि दीपिका ने Vogue के विज्ञापन में दावा किया है....तो समाज का ताना-बाना कैसा होगा... उसकी अंग्रेज़ी लाइनें दे रहा हूं.. ज़रा पढ़िए... समझिए.. और फिर अपना ज्ञान दीजिए...
My body, my mind, my choice
To wear the clothes I like; even if my spirit roams naked
My choice; to be a size 0 or a size 15
They don’t have a size for my spirit, and never will
To use cotton and silk to trap my soul is to believe that you
can halt the expansion of the universe
Or capture sunlight in the palm of your hand
Your mind is caged, let it free
My body is not
Let it be
My choice
To marry, or not to marry
To have sex before marriage, to have sex out of marriage, or
to not have sex
My choice
To love temporarily, or to lust forever
My choice
To love a man, or a woman, or both
Remember; you are my choice, I’m not your privilege
The bindi on my forehead, the ring on my finger, adding your
surname to mine, they’re all ornaments and can be replaced
My love for you cannot, so treasure that
My choice; to come home when I want
Don’t be upset if I come home at 4am
Don’t be fooled if I come home at 6pm,
My choice; to have your baby or not
To pick you from 7 billion choices or not
So don’t get cocky
My pleasure might be your pain
My songs, your noise
My order, your anarchy
Your sins, my virtues
My choices are like my fingerprints
They make me unique
I am the tree of the forest
I am the snowflake not the snowfall
You are the snowflak
Wake up
Get out of the shit storm
I choose to empathise
Or to be indifferent
I choose to be different
I am the universe
Infinite in every direction
This is my choice.

Follow by Email