मुझसे जुड़ें

मेरे पेज से जुड़ें

Tuesday, June 28, 2016

अगर भारत NSG में शामिल हुआ

NSG में शामिल होने के चार फायदे 



न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप में शामिल होने का रास्ता भारत के लिए उस वक्त खुला जब 2008 में अमेरिका से न्यूक्लियर डील हुई... सवाल ये है कि भारत के लिए NSG में शामिल होना इतना ज़रूरी क्यों है... दरअसल एनएसजी में शामिल होने से देश को चार बड़े फायदे होंगे

पहला फायदा
परमाणु तकनीक आसानी से मिलेगी
 भारत एनएसजी में शामिल हुआ तो उसे दवाई से लेकर न्यूक्लियर पावर प्लांट बनाने तक की तकनीक बेहद आसानी से उपलब्ध होगी... भारत के पास अपनी स्वदेशी तकनीक भी है.. लेकिन एनएसजी के सदस्य के तौर पर दूसरे देशों के पास मौजूद अत्याधुनिक तकनीक हासिल करने में किसी तरह की कोई मुश्किल नहीं आएगी. भारत का लक्ष्य है कि वो उर्जा की अपनी 40 फीसदी जरूरत रीन्यूवेबल और क्लीन एनर्जी से पूरा करेगा... और ये तभी मुमकिन हो पाएगा जब परमाणु उर्जा के उत्पादन को बढ़ाया जाए...

दूसरा फायदा
यूरेनियम आसानी से मिलेगा
एनएसजी का सदस्य बनते ही परमाणु उर्जा उत्पादन भारत के लिए आसान हो जाएगा.. क्योंकि रिएक्टर्स में इस्तेमाल होने वाला यूरेनियम उसे सदस्य देशों से आसानी से मिल जाएगा

तीसरा फायदा
मेक इन इंडिया को बढ़ावा
 यही नहीं भारत इसके ज़रिए मेक इन इंडिया प्रोग्राम को बढ़ावा दे सकता है... सदस्यता मिलने के बाद भारत न्यूक्लियर पावर प्लांट के उपकरणों का उत्पादन बड़े पैमाने पर अपने यहां कर सकेगा... जिसका इस्तेमाल आर्थिक और रणनीतिक फायदे के लिए किया जा सकता है.

चौथा फायदा
मेड इन इंडिया पावर प्लांट
 भारत के पास वो काबिलियत आ जाएगी कि वो दुनिया के दूसरे देशों को अपने पावर प्लांट बेच सके... इसका मतलब ये हुआ कि पूरी न्यूक्लियर इंडस्ट्री और इससे संबंधित तकनीक के विकास के बाज़ार में भारत की अपनी मज़बूत जगह बन जाएगी...
  
चौथा फायदा
उर्जा जरूरतें पूरी होंगी 
एक ओर चीन जहां भारत को एऩएसजी में शामिल होने से रोकना चाहता है.. वहीं दूसरी ओर वो 2020 तक अपनी परमाणु ऊर्जा उत्पादन क्षमता को तीन गुना करना चाहता है.. चीन की तरह ही भारत को भी उर्जा की बड़ी जरूरत है...


भारत के पास फिलहाल 21 परमाणु संयत्र हैं... जिनसे 5800 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जा रहा है... 6 नए रिएक्टर्स अभी बनाए जा रहे हैं... अपनी ऊर्जा संबंधी जरूरतों को देखते हुए भारत ने 2032 तक 63 हज़ार मेगावाट परमाणु ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य बनाया हैवैसे एनएसजी में शामिल होने का एक रास्ता ये है कि भारत एनपीटी पर साइन कर दे और एनएसजी में शामिल हो जाए... पर इसका मतलब ये हुआ कि हमें अपने सारे परमाणु हथियारों को नष्ट करना होगा.. जो कि पाकिस्तान जैसे अस्थिर पड़ोसी के मौजूद रहते करना ठीक नहीं होगा..

Follow by Email